फ़ौज से रिटायर पिता बेटे को पढ़ने के लिए कह रहा था लेकिन बेटा उठा नहीं और बहस करने लगा, उसके बाद पिता ने उठाया ये बड़ा कदम !

देश के अलग-अलग हिस्सों से आये दिन तरह तरह के मामले सामने आते रहते हैं, जिनमें से कुछ तो बेहद ही हैरान करने वाले होते हैं. इतने सख्त कानून होने के बाद भी अपराध होना कम नहीं हो रहा है. छोटी-छोटी बात पर लोग एक दूसरे की जान के दुश्मन बन जाते हैं. ऐसा ही एक मामला आज हम आपको लेकर आये हैं, जिसे जानने के बाद आपके भी होश ना उड़ जाए तो कहना. अक्सर लोग गुस्से में इतना बड़ा कदम उठा जाते हैं कि जिंदगीभर उन्हें उस बात का मलाल रहता है. रांची में एक बाप ने अपने बेटे के साथ ऐसा ही काम किया है कि जानकर आपकी भी रूह कांप उठेगी.

Image Source-your story

क्या है मामला…?

आज का समय ऐसा चल रहा है कि बच्चे पढ़ना-लिखना पसंद नहीं करते हैं. जिसके चलते बच्चों के माता-पिता पढ़ाई और भविष्य के लिए दवाब बनाने लगते हैं लेकिन शायद वो भूल जाते हैं कि उनके ये दवाब जानलेवा हो सकता है. अब आप सोच रहे होंगे कि बच्चे से सुसाइड कर ली होगी? क्योंकि आजकल बच्चे इस तरह के ही कदम उठा रहे हैं लेकिन ये मामला सबसे अलग है. दरअसल रांची में सोमवार को प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कर रहे 29 वर्षीय बेटे राहुल को पिता ने सुबह-सुबह पढ़ने के लिए उठाना चाहा. तड़के सुबह-सुबह बेटा उठना नही चाह रहा था. धीरे-धीरे में बाप और बेटे के बीच बहस बढ़ गयी, उसके बाद फिर कुछ ऐसा हुआ कि जानकर रौंगटे खड़े हो जायेंगे.

Image Source-The Indian Express तस्वीर सांकेतिक है 

पढ़ने के लिए नहीं उठा बेटा तो बाप ने उठाया खौफनाक कदम 

बेटे को पढ़ने के लिए उठाने के चलते धीरे-धीरे जब बाप-बेटे के बीच बहस बढ़ती गयी और बात गाली-गलौज पर आ गयी तो बाप ने गुस्से में अपना आपा खो दिया और अपनी लाइसेंसी बंदूक से बेटे को गोली मार दी. जिसके बाद घर में हाहाकार मच गया और पड़ोसियों में हड़कंप मच गया.

Image Source-patrika

जिसके बाद जब तक बेटे राहुल को कहीं अस्पताल ले जाते तब तक बेटे की जान जा चुकी थी, पुलिस ने मौके पर पहुंचकर आरोपी पिता राकेश को गिरफ्तार कर लिया है.

Image Source-bhaskar

गौरतलब है कि आरोपी राकेश साल 2005 में सीआरपीएफ में हवलदार के पद से रिटायर हुआ है. पुलिस की पूछताछ में पिता ने जुर्म कबुलते हुए कहा है कि मैंने 25 साल तक नौकरी की और चाहता था कि मेरा बेटा राहुल भी कहीं अच्छी जगह नौकरी करे लेकिन वो मेरी सुनता नहीं था और सुबह 11 बजे तक सोया करता था. सोमवार को मैंने सुबह 6″20 पर पढ़ने के लिए उठाया तो वो नाराज हो गया और मुझे गलियां देने लगा, जिसके बाद मैंने अपना आपा खो दिया और उसे गोली मार दी, जब तक एम्बुलेंस आती और उसे कहीं ले जाते तब तक उसकी जान जा चुकी थी.

News Source-bhaskar

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *