कैंसर जैसी भयंकर बीमारी से जूझ रही सोनाली बेंद्रे ने अब विदेश से भेजा है ऐसा संदेश कि पढ़कर भावुक हो जाओगे

साल 2018 बॉलीवुड के अभिनेताओं और राजनेताओं के लिए बेहद ही असुभ साबित हुआ है. इस साल देश की कई मशहूर हस्तियों ने इस दुनिया को अलविदा कहा है. जिसमें से सबसे ज्यादा लोग अगस्त के महीने में हमारा साथ छोड़कर गये हैं. अगस्त के महीने में ही भारत रत्न और पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी जी ने अंतिम सांसे ली थी. इसी के साथ टीवी जगत की मशहूर हस्ती कवि कुमार आजाद ने हमारा साथ छोड़ा था. यह साल अभी खत्म हुआ नही है और बॉलीवुड के कई बड़ी हस्ती जिंदगी और मौत की लड़ाई लड़ रहे हैं.

Image Source-bhaskar

कैंसर जैसी घातक बीमारी से जूझ रहे हैं ये स्टार 

जानकारी के लिए बता दें इस समय बॉलीवुड के कई स्टार कैंसर जैसी घातक बीमारी से जूझ रहे हैं और विदेश में अपना इलाज करवा रहे हैं. जिनमें से एक तो मशहूर अभिनेता इरफ़ान खान हैं तो अभिनेत्री सोनाली बेंद्रे हैं. सोनाली इन दिनों अपना इलाज विदेश में करवा रही हैं और सोशल मीडिया पर सकारात्मक संदेश शेयर करती रहती हैं. उन्होंने अभी हाल ही में सोशल मीडिया पर एक संदेश देते हुए अपना दर्ज बयाँ किया है, जिसे जानकर आप भी भावुक हो जायेंगे.

Image Source-jansatta

कैंसर से जूझ रही सोनाली बेंद्रे ने दिया ये मैसेज 

सोनाली बेंद्रे ने सोशल मीडिया पर पोस्ट करते हुए एक मैसेज दिया है, जिसमें उन्होंने लिखा है कि ”बीते कुछ महीनों में मैंने अच्छे दिन भी देखे और बुरे भी. कुछ ऐसे दिन भी रहे जब मैं इतना थक जाती थी कि मैं दर्द की वजह से एक अंगुली को उठा पाना भी मुश्किल होता था. मुझे लगता है कि एक ऐसा चक्र है जिसमें दर्द शरीर से शुरू होकर दिमाग और फिर भावनाओं में भी पहुंच जाता है.कीमो और सर्जरी के बाद मुझे हंसना भी मुश्किल हो गया था.”

गौरतलब है कि सोनाली ने आगे लिखा है कि ”कभी-कभी मुझे लगता था इस स्थिति से बाहर आने के लिए अपनी जान भी लगा देनी पड़ेगी. हर मिनट मुझे खुद से लड़ना होता था. मैं बस इस लंबी और थकाऊ लड़ाई से लड़ती रहती क्योंकि मुझे पता था कि यह लड़ाई लड़ने लायक है. हमें इस बात को जानना जरुरी है कि हमारी जिंदगी में कुछ बुरे दिन भी आते हैं. इसलिए खुद को खुश रखना बेमतलब है. हम यह नाटक भला क्यों और किसके लिए कर रहे हैं?”

Image Source-Jansatta

 इसके आगे सोनाली ने लिखा है कि ”कुछ समय के लिए मैंने रोने, दर्द महसूस करने और खुद पर तरस खाने से खुद को नहीं रोका. सिर्फ आपको ही पता होता है कि आप पर क्या गुजर रही है और इसे स्वीकार भी करना होता है. भावनाएं गलत नहीं होती हैं. निगेटिव इमोशन्स भी गलत नहीं होते हैं. हालांकि एक सीमा के बाद इन्हें पहचानिए और खुद पर काबू करने से पहले रोकिए. नींद या कीमो के बाद मरी फेवरिट स्मूदी या मेरे बेटे से बातचीत हमेशा काम आते हैं.” इसी के साथ अंतिम में उन्होंने घर वापस आने की इच्छा जताते हुए लिखा है कि मेरा इलाज जारी है और मैं इस बात पर ध्यान दे रही हूँ कि मैं बेहतर होकर घर लौटना चाहती हूँ. कैंसर से पीड़ित सोनाली इस समय कितने दर्द से गुजर रही हैं ये आप उनके इस मैसेज के बाद समझ ही गये होंगे. हम भगवान से कामना करते हैं कि वह जल्द ही स्वस्थ होकर अपने घर लौटकर आये.

News source-jansatta

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *