तो इस देश ने दिया है “तितली” तूफ़ान को ये नाम, अगर पूरी गति से आ गया ये तूफ़ान तो…

आपने कई बार गौर किया होगा कि तूफानों के बड़े  नाम होते हैं, जैसे हुदहुद, तितली या कैटरीना। इस समय भारत में जिस तूफ़ान ने भारत में आतंक मचाया है वो  है तीतली तूफ़ान। बता दें  बंगाल की  खाड़ी से उठा है और इस समय पूरे भारत में इसका असर है. इस तूफ़ान ने सबसे ज़्यादा तबाही 11 अक्टूबर की सुबह आंध्र-प्रदेश और  ओडिसा के तटीय इलाकों में मचाई है.

जानिये क्यों किया जाता है तूफानों का नामकरण ? 

सबसे पहले किसी तूफ़ान को नाम साल 1953 में दिया गया था और भारत में यह चलन साल 2004 से शुरू हुआ है. तबसे लेकर भारत  लहर, मेघ, सागर और वायु नाम के तूफानों को पहचान दे चुका है. दरअसल किसी भी तूफ़ान को नाम देने के पीछे कारण यह रहता  है कि ऐसा करने से तूफ़ान को पहचाने में आसानी होती है और वैज्ञानिक नाम के अनुसर इसकी शक्ति को भांप सकते हैं.

तितली तूफ़ान के बीच फोटो खींचते लोग ( image source : punjabkesri )

 

इस देश ने दिया है तीतली तूफ़ान को नाम 

दरअसल तीतली तूफ़ान को नाम पाकिस्तान ने दिया है, आपको बता दें पाकिस्तान फानूस  नाम भी दे चुका है.

 

कितना खतरनाक हो सकता है तीतली तूफ़ान 

इस समय तीतली तूफ़ान ओडिसा में है जिसके कारण अभी तक 145 किलोमीटर प्रति घंटा तक की रफ़्तार तक हवाएं चल चुकी हैं, मौसम विभाग के अनुसार इस तूफ़ान के कारण हवा की रफ़्तार 165 किलोमीटर प्रति घंटा तक हो सकतीहैं।

तूफ़ान के बीच आयी भारी बारिश और तेज़ हवाओं से कई पेड़ गिर गए ( image source : punjabkesri )

सरकार ने की है ये तैयारी 

आपको बता दें सरकार की तरह से इस तूफ़ान से निपटने के लिए 14 NDRF की टीम तैनात की गयी थीं, तूफ़ान आने से पहले ही निचले इलाके के लोगों को सुरक्षित स्थानों पर भेज दिया गया है और लगातार मौसम पर नज़र रखी जा रही है.

 news source : Punjab kesri 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *